इसे पढ़कर आप भी कहेंगे 'बदल डालो टीम इंडिया का कोच'

coach लंदन। इंग्लैंड में वनडे सीरीज के दौरान टीम के डायरेक्टर बनाए  गए रवि शास्त्री ने अपने उस मास्टर प्लान का खुलासा किया है  जिसके जरिए वो टेस्ट सीरीज की शर्मनाक हार से टूट चुकी  भारतीय टीम को वनडे सीरीज में वापस पटरी पर लाए। जाहिर है  शास्त्री के इस अंदाज के बारे में जानकर हर किसी की यही राय  होगी कि आने वाले समय में आइसीसी विश्व कप से पहले शास्त्री  को ही टीम की कमान सौंप दी जाए।

 – शास्त्री का ‘मास्टर प्लान':

 जब शास्त्री को टीम का डायरेक्टर नियुक्त किया गया तो उन्होंने  उस छोटे से समय में टीम में बदलाव लाने के लिए बेहतरीन अंदाज  में काम किया और टेस्ट सीरीज के बाद टूटी हुई नजर आ रही  भारतीय टीम ने इंग्लैंड में एतिहासिक वनडे सीरीज जीत को अंजाम दे दिया। शास्त्री ने बताया, ‘मुझे उसे (ड्रेसिंग रूम) ऐसी जगह बनाना था जहां खिलाड़ी खुश रहें। जैसे-जैसे मैंने उनसे बातें करनी शुरू कीं, सब कुछ सही जगह पर आने लगा। मैं किसी भी खिलाड़ी से व्यक्तिगत तौर पर बात करने से घबराया नहीं। मैदान, बस, ड्रेसिंग रूम या फिर खाते वक्त….हर जगह हम बस क्रिकेट के बारे में ही बात करते थे। संवाद करना जरूरी है। मेरे पास फायदा ये था कि मैंने इन लड़कों को करीब से बहुत बार देखा और समझा है। मैंने उनको बताया कि मैंने जितना क्रिकेट खेला है, उससे कहीं ज्यादा देखा है। मैंने क्रिकेट के बारे में तब और ज्यादा जाना, जब मैंने खेलना छोड़ दिया था।’

- विराट को ऐसे लाए पटरी परः

टेस्ट सीरीज के बाद वनडे सीरीज में भी खराब फॉर्म से जूझने वाले विराट कोहली ने आखिरकार टी20 मैच में अर्धशतक लगाकर फॉर्म में वापसी की और जानदार शॉट्स लगाकर अच्छे संकेत दिए। विराट की इस वापसी के बारे में बात करते हुए शास्त्री ने कहा, ‘विराट के बारे में सब जानते थे कि उनका फॉर्म बस एक पारी दूर है और एजबेस्टन टी20 में वैसा हो भी गया। वो पहले इसलिए नहीं खेल सका क्योंकि कुछ सोच और तकनीक में कुछ दिक्कतें थीं। आप एक ही तरह से पांच या छह बार आउट नहीं हो सकते। उनको इस बारे में अहसास कराना जरूरी था और वही हमने किया। अब वो जानता है कि कुछ चीजों में उसे सुधार की जरूरत है और यही हाल शिखर (धवन) का भी था।’

- धौनी को इस तरह फिर बनाया ‘कूल':

टेस्ट सीरीज के बाद जितना टीम टूट चुकी थी, उतना ही कप्तान धौनी भी। हार के साथ-साथ सीरीज के दौरान हुए विवादों का भी इसमे योगदान था लेकिन वनडे सीरीज में सब पहले जैसा दिखने लगा। इसके बारे में शास्त्री ने कहा, ‘हम दोनों एक-दूसरे से अच्छे से परिचित हैं। हमारा काम था टेस्ट सीरीज की हार के बाद उनकी (धौनी) जिंदगी को थोड़ा आसान बनाना। हमे उन पर से दबाव हटाना था। हमारा काम खिलाड़ियों से बात करते हुए उनका मनोबल बढ़ाना था।’

- शास्त्री ने ये कहा था खिलाड़ियों सेः

शास्त्री ने भारतीय टीम से बात करते हुए कुछ ऐसा कहा था कि खिलाड़ियों में मनोबल बढ़ने में जरा भी देरी नहीं हुई। शास्त्री ने खिलाड़ियों से क्या कहा इसका खुलासा करते हुए उन्होंने कहा, ‘मैंने खिलाड़ियों से कहा, मैं यहां इसलिए आने के लिए राजी हुआ क्योंकि आपने मुझे इस दौरे पर लॉर्ड्स पर भारत की अब तक की सबसे एतिहासिक टेस्ट जीत से रुबरू कराया और मैंने उन्हें ये भी बताया कि अगले तीन टेस्ट मैचों में उन्होंने शर्मनाक प्रर्दशन किया। मेरे लिए एक अच्छी टीम दो हफ्तों में खराब नहीं हो सकती। फिर वनडे सीरीज में जैसा प्रदर्शन हुआ वो अद्भुत था। मत भूलें कि ये दूसरी बार ही हुआ था कि इंग्लैंड में भारत ने द्विपक्षीय वनडे सीरीज जीती।’ हालांकि अभी टीम के साथ अपने भविष्य को लेकर शास्त्री ने कोई सोच-विचार नहीं किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>