हिन्दी साहित्य में अधिकतर पंजाबी कवियों का इतिहास

punjabiगुरदासपुर। पंडित मोहन लाल एसडी कालेज फार वूमेन में हिन्दी विभाग की तरफ से पंजाब का हिंदी साहित्य विषय पर एक सेमिनार का आयोजन प्राचार्य डा. नीलम सेठी की अध्यक्षता में किया गया। समारोह में डा. हरमहेंद्र सिंह बेदी मुख्य वक्ता के तौर पर शामिल हुए। डाक्टर बेदी ने छात्राओं को पंजाब के हिंदी साहित्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 10वीं शताब्दी से लेकर आज तक पंजाब के हिंदी साहित्यकारों, लेखकों, कवियों, कवियत्रियों का योगदान भुलाया नहीं जा सकता है। हिंदी साहित्य में अधिकतर पंजाब से संबंधित कवियों का इतिहास ही मिलेगा। उनके द्वारा लिखा गया साहित्य हमारी बहुमूल्य संपत्ति है। भारत के कोने-कोने में गाई जाने वाली आरती ओम जय जगदीश हरे कवि श्रद्धा राम फिल्लौर द्वारा लिखी गई है। उन्होंने खुद लिखी कविता पढ कर छात्राओं को सुनाई। प्रिंसिपल नीलम सेठी ने नारी सशक्तिकरण पर आधारित कविताएं भी पढीं। इस मौके पर पुनीता ने भी संबोधन किया।

One comment

  1. Wondеrfսl goods from you, man. I have understand youг stuff previous to and you’re just too great.

    I really like what you’ve acquired Һere, really like what you are saying and the way in which you say it.
    You make it entertaining and you still care for to
    keep it smart. I cant wait tо read much more fгom you.
    This is really a tremendous web site.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>